डेविड हेडली पर आई किताब ‘द माइंड आॅफ ए टेरेरिस्ट’

मुंबई हमले (2008) में आतंकियों की मदद करने के आरोप में 35 साल की सजा काट रहे डेविड हेडली पर एक किताब आ गई है। इस किताब को डेनमार्क के एक पत्रकार ने लिखा है। उनका नाम कारे सोरेसन है। इस किताब में उन 300 ई-मेल्स का जिक्र है जिन्हें अबतक सार्वजनिक नहीं किया गया। इन सभी मेल में हेडली ने हमले के सिलसिले में कई लोगों से बातचीत की थी। हालांकि, यह नहीं बताया गया है कि हेडली ने ये मेल किन-किन लोगों को भेजे थे। कारे ने यह किताब डेनिश भाषा में लिखी है। इसको भारत में पेंग्विन पब्लिकेशन ने ‘द माइंड आॅफ ए टेरेरिस्ट’ नाम से इंग्लिश में प्रकाशित किया है। कह सकते हैं कि इस किताब को पढ़कर जाना जा सकता है कि हेडली या फिर उसकी तरह के किसी आतंकी का दिमाग किस तरीके से काम करता है। वह लोगों से कैसे और क्या बातें करता है। इस किताब के जरिए आतंकी संगठन लश्कर-ए-तयैबा, अल-कायदा से हेडली के संपर्क होने की भी जानकारी मिलती है। उन्हीं के साथ मिलकर हेडली ने 26/11 हमलों को अंजाम दिया था। जिसमें 166 लोगों ने अपनी जान गंवा दी थी। यह किबाब लभगभ सभी आॅनलाइन बुक्स स्टोर (online bookstore) पर उपलब्ध है। कोई भी पाठक इस किताब को आॅनलाइन (buy books online) डिस्काउंट पर खरीद सकता है।

No comments:

Theme images by sndr. Powered by Blogger.