महात्मा गांधी पर पुस्तकों को पढ़ने के शौकीन हैं अमेरिका के इंटरनेट उपभोक्ता

मुंबई। महात्मा गांधी पर किताबें और लेख पढ़ने वालों की सूची में अमेरिका में इंटरनेट उपभोक्ता दूसरे पायदान पर हैं, हालांकि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Gandhi)अपने जीवन में कभी अमेरिका नहीं गए। गांधी पर एक प्रमुख वेबसाइट की विश्लेषण रिपोर्ट में यह तथ्य सामने आया है। गूगल एनलिटिक्स द्वारा वेबसाइट एमकेगांधी डॉट आॅर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक, महात्मा गांधी पर ज्यादातर आनलाइन पाठक या अनुसंधानकर्ता भारत के हैं, जबकि पेज देखने, डाउनलोडिंग, ई-पुस्तक (E-books) पढ़ने और डाउनलोडिंग के मामले में अमेरिका दूसरे पायदान पर है। गूगल एनलिटिक्स वेबसाइट यातायात पर नजर रखने और उनकी रिपोर्ट देने वाली एक ‘फ्रीमियम’ वेब विश्लेषण सेवा है। संयुक्त राष्ट्र ने महात्मा गांधी की जयंती को अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस घोषित किया है और यह दुनियाभर में मनाया जा रहा है। वर्ष 1998 में शुरू की गई एमकेगांधी डॉट आॅर्ग, गांधीवादी संस्थानों द्वारा पेश एक व्यापक वेबसाइट है और इसका संचालन यहां स्थित न्यास बांबे सर्वोदय मंडल द्वारा किया जाता है जो संगोष्ठियों, कार्यशालाओं, बैठकों, युवा शिविरों आदि के जरिये महात्मा गांधी द्वारा किए गए कार्यों और गांधी पर किए गए कार्यों को प्रोत्साहित करने का काम करता है।

No comments:

Theme images by sndr. Powered by Blogger.