कैंसर से जीतीं आरजे पल्लवी ने आईसीयू में लिख दी किताब

यूं तो हर किसी की ज़िंदगी में समस्याएं आती हैं. कुछ लोग समस्याओं के आगे सरेंडर बोल देते हैं, वहीं कुछ लोग ऐसे होते हैं, जो समस्याओं को चुनौती देते हुए आगे बढ़ जाते हैं और पूरी दुनिया के लिए मिसाल बनते हैं. तीन बार कैंसर से जूझने के बावजूद भी वो अपनी ज़िंदगी जी रही हैं और लोगों के लिए प्रेरणा बनी हुई हैं. हम बात कर रहे हैं दिल्ली की मशहूर आरजे सी. पल्लवी राव की. इनके बारे में जितना भी लिखा जाए, कम है. वो एक बेहतरीन आरजे ही नहीं, भरतनाट्यम और कुचीपुड़ी डांसर भी हैं, एक बेहतरीन पेंटर हैं, भूतपूर्व एनसीसी कैडेट रह चुकी हैं. सोचिए, आईसीयू के क्रिटिकल माहौल से भला कैसे कोई बुक भी लॉन्च कर सकता है? मगर पल्लवी ने ऐसा किया.  पल्लवी की ज़िंदगी में सबकुछ ठीक चल रहा था मगर एक दिन डॉक्टर ने बताया कि उन्हें कैंसर हो गया है, तो उन्हें काफी तकलीफ हुई. जब यह बात उन्होंने अपने पति को बताई तो उन्होंने बहुत ही पॉजीटिवली जवाब देते हुए कहा, 'हो जाएगा'. इतना सुनते ही पल्लवी की आधी बीमारी ख़त्म हो गई. पल्लवी को 'मायस्थेनिया ग्रेविस' बीमारी थी. भारत में यह दूसरा मामला था. इससे पहले फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन को ये बीमारी थी. इस तरह के बीमारी में चेहरे के मांसपेशियों पर बुरा प्रभाव पड़ता है. जिसके कारण इंसान सही से बोल नहीं पाता है.  ICU Love Stories, पल्लवी की पहली किताब है, जो आईसीयू में ही लिखी गई है. इस किताब की शुरुआत ICU से हुई, जहां गंभीर माहौल में भी उन्होंने लोगों के बीच प्यार ढूंढ़ लिया. इस काम के लिए उनके पति ने उनका सपोर्ट किया. इस किताब के किरदार वो सभी लोग हैं, जो यहां एडमिट थे, जो यहां किसी से मिलने आते थे, जो यहां काम करते थे. इनमें से किसी को एहसास नहीं था कि वे एक खूबसूरत कहानी के किरदार बनते जा रहे हैं.  पल्लवी और उनके पति चाहते थे कि यह किताब 17 अक्टूबर को पल्लवी के जन्मदिन पर लॉन्च हो, मगर तबीयत ख़राब होने के कारण यह हो नहीं सका. ऐसे में उन्होंने इस आईसीयू से लॉन्च की. पल्लवी अपनी के हस्बैंड राहुल ने बताया कि 17 अक्टूबर को उनके जन्मदिन पर वो दोनों इस बुक को लॉन्च करने की सोच रहे थे. तभी राहुल ने मज़ाक में कहा, ICU में बुक लॉन्च कर देते हैं, जिस पर पल्लवी भी हंसने लगी. तब उन्हें नहीं पता था कि ये बात इस तरह से सच हो जाएगी.  लॉन्चिंग के बाद यह ऑनलाइन बुक्स स्टोर (Online bookstore) के साथ सभी बुकस्टोर  उपलब्ध है. यह किताब ऑनलाइन  बुक्स स्टोर से खरीदने (Buy books online) पर भरी डिस्काउंट मिल रहा है.


No comments:

Theme images by sndr. Powered by Blogger.