नितिन गडकरी ने 'द ग्रेट डिसीट एट डान' किताब का विमोचन किया

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने  स्वतंत्रता के बाद भारतीय राजनीति के उतार-चढ़ाव भरे घटनाक्रम पर आधारित सामाजिक कार्यकर्ता अनुश्री मुखर्जी की किताब 'द ग्रेट डिसीट एट डान' का  विमोचन किया.  इस  लॉन्चिंग के  बाद यह बुक सभी ऑनलाइन और ऑफ  बुकस्टोर (Online bookstore) पर  है. इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग, जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि देश आगे कैसे बढ़े यह किसी एक शख्स या सिर्फ सरकार की जिम्मेदारी नहीं है इस पर सबको काम करना होगा। उन्होंने कहा, सरकार हर उस समस्या पर गौर कर उसके समाधान की ओर अग्रसर है जिससे देश लंबे समय से जूझता रहा है। हमें 70 साल की आर्थिक नीति पर भी विचार करना चाहिये। अनुश्री की यह किताब आजादी के बाद से वर्ष 2014 से पहले तक केंद्र की सरकारों की नीतियों का आलोचनात्मक अध्ययन करने के साथ ही वोटबैंक की राजनीति के चलते सियासी दलों के बदलते स्वरूप पर भी प्रकाश डालती है। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि और भाजपा उपाध्यक्ष श्याम जाजू ने कहा कि सिर्फ विचारों के स्तर पर ही नहीं क्रियान्वयन के स्तर पर भी काम होना चाहिये। उन्होंने कहा, यह किताब सही मायनों में बताती है कि भारतीय राजनीति ने कैसे-कैसे उतार-चढ़ाव देखे।किताब की लेखिका अनुश्री मुखर्जी बताती है कि हिंदुस्तान की राजनीति को अलग-अलग तरीके से बार-बार पेश किया गया लेकिन हर बार इसे एक साथ संपूर्णता में पेश नहीं किया गया। यही वजह है कि उन्होंने किताब लिखने  के बारे में सोचा। कार्यक्रम की अध्यक्षता इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र के अध्यक्ष राम बहादुर राय ने की।

No comments:

Theme images by sndr. Powered by Blogger.